हाथकरघा एवं हस्तशिल्प संचालनालय

मध्यप्रदेश शासन

उज्जैन

भैरवगढ़ का संक्षिप्त परिचय भौगोलिक पृद्गठ भूमि

क्षिप्रा नदी के तट पर उज्जैन रेल्वे स्टेशन से लगभग 07 किलोमीटर पर उत्तरी दिशा में भैरवगढ़ कस्बा है जहॅां प्रिटिंग कला विखयात है। यहां प्रिन्टिंग की विविध विधाओं का उपयोग करते हुए विभिन्न तरह के प्रॉडक्ट्‌स बनाए जाते है जिसमें बटिक, टाई एवं डाई एवं ब्लॉक प्रिन्टिंग आदि का कलात्मक स्वरूप देखने को मिलता है। भैरवगढ़ रंगाई छपाई का कार्य लगभग 750 वर्ष पुराना माना जाता है।

वर्ष 1960 में यहां के छपाई उद्योग में उल्लेखनीय परिवर्तन प्रारम्भ हुआ, यानि केमीकल रंगों का प्रचलन शुरू हुआ। प्रिटिंग उद्योग में दूसरा महत्वपूर्ण परिवर्तन 1980 में आया जब राज्य वस्त्र निगम के माध्यम से यहाँ स्क्रीन प्रिंटिंग प्रारम्भ हुआ। इससे प्रोडक्शन में त्वरित उछाल आया।

वर्तमान में भैरवगढ़ में प्रिन्टिंग की प्रमुख चारों विधाओं यानि ब्लॉक, बटिक, स्क्रीन और बंधेज में कार्य होता है। यहां 250 परिवार ऐसे है जो एक से ज्यादा प्रिंटिंग विधाओं में दक्ष है और बाजार मांग की आवश्यकतानुसार उत्पादन करने में सक्षम है।

वर्तमान में सरकारी निगमों/संस्थाओं से क्रय करने में अत्यधिक कमी आई है और प्रिन्टर्स अपने पैरों पर खड़े होकर जॉब वर्क का कार्य कर रहे है । मुखयतः यह व्यवसाय वर्षा ऋतु में काफी कम हो जाता है एवं गर्मी के मौसम में पानी की कमी की वजह से इस उद्योग पर विपरीत प्रभाव पड़ता है। अतः मुखय रूप से यह कार्य सर्दी के दिनों में ही त्वरित गति से चलता है।

img
img
img
img
img
img
img