हाथकरघा एवं हस्तशिल्प संचालनालय

मध्यप्रदेश शासन

बाग

प्रिंट के साड़ी एवं ड्रेस मटेरियल का संक्षिप्त विवरण

म.प्र. के दक्षिण अंचल में इन्दौंर अहमदाबाद राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक 59 पर स्थित धार से 90 किलोमीटर दूरी पर प्राचीन नगर बाग स्थित है। यहां पर बौधकालीन तीन गुफाएं भारतीय पुरात्तव की अमूल्य धरोहर है। बाग जिला धार में छपाई की कला हेतु स्थानीय वातावरण एवं पानी का महत्वपूर्ण योगदान है। 1950 दशक के पूर्व से यंहा ब्लाक छपाई का कार्य किया जा रहा है।

  1. बाग प्रिंट का कार्य मुख्यतः खत्री (छिपा) वर्ग के व्यक्तियों द्वारा किया जाता है। वर्तमान में अन्य वर्ग के व्यक्ति भी महारत हासिल कर बाग प्रिंट का कार्य कर रहें है। इस समय यहां पर बाग प्रिंट के लगभग 14 छोटे-बड़े कारखाने संचालित है। जिनमे लगभग 1300 से अधिक ब्लाकों का उपयोग हो रहा है। इस छपाई में शत प्रतिशत प्राकृतिक रंगों का उपयोग किया जाता है। इन कपड़ों की एक विशेषता यह भी है कि छपाई के साथ-साथ इनकी चमक व रंगों में निखार आता है।
  2. बाग प्रिंट के अंतर्गत बेड कब्हर, साड़ी, सलवार सूट, ड्रेस मटेरियल, टेबल कवर, पर्दे, दुपटे, तकिये तथा कुशन कवर एक्सक्लूसिव डिजाइनों में प्रिंट किये जाते है। सूती वस्त्रों के साथ ही महेश्वरी, सिफॉन, क्रेप, सिल्क, जार्जट आदि कपड़ो पर भी ब्लाक प्रिंटिग कुशलता से की जाती हैं।
  3. बाग प्रिंटिग प्रक्रिया- कपड़े को कलफ पानी में अच्छी तरह भिगोकर निकालते है। अंरडी तेल, संचोरा एवं मेंगनी के घोल में कपड़े को भिगोकर कपड़े को धूप में सुखाते है। कपड़े को खारा देते है। इस तरह तैयार कपड़े पर ब्लाक प्रिन्ट करते है। ब्लाक प्रिंट को छपाई के बाद कपड़े की बिछवाई करते है ताकि रंग अच्छी तरह सूख जाए इसके पश्चात फिर भटटी के पानी में डाला जाता हैं। फिर साफ पानी से धोकर सुखा देते है। इस प्रकार कपड़ों पर बागं प्रिंट का कार्य होता है।
img
img
img
img